Narmada Chalisa

Narmada Chalisa | नर्मदा चालीसा | Hindi | English

Shree Narmada Chalisa in Hindi

Narmada Chalisa

श्री नर्मदा चालीसा

॥ दोहा ॥

देवि पूजित, नर्मदा, महिमा बड़ी अपार।
चालीसा वर्णन करत, कवि अरु भक्त उदार॥

इनकी सेवा से सदा, मिटते पाप महान।
तट पर कर जप दान नर, पाते हैं नित ज्ञान ॥

॥ चौपाई ॥

जय-जय-जय नर्मदा भवानी, तुम्हरी महिमा सब जग जानी।
अमरकण्ठ से निकली माता, सर्व सिद्धि नव निधि की दाता।

कन्या रूप सकल गुण खानी, जब प्रकटीं नर्मदा भवानी।
सप्तमी सुर्य मकर रविवारा, अश्वनि माघ मास अवतारा।

वाहन मकर आपको साजैं, कमल पुष्प पर आप विराजैं।
ब्रह्मा हरि हर तुमको ध्यावैं, तब ही मनवांछित फल पावैं।

दर्शन करत पाप कटि जाते, कोटि भक्त गण नित्य नहाते।
जो नर तुमको नित ही ध्यावै, वह नर रुद्र लोक को जावैं।

मगरमच्छा तुम में सुख पावैं, अंतिम समय परमपद पावैं।
मस्तक मुकुट सदा ही साजैं, पांव पैंजनी नित ही राजैं।

कल-कल ध्वनि करती हो माता, पाप ताप हरती हो माता।
पूरब से पश्चिम की ओरा, बहतीं माता नाचत मोरा।

शौनक ऋषि तुम्हरौ गुण गावैं, सूत आदि तुम्हरौं यश गावैं।
शिव गणेश भी तेरे गुण गवैं, सकल देव गण तुमको ध्यावैं।

कोटि तीर्थ नर्मदा किनारे, ये सब कहलाते दु:ख हारे।
मनोकमना पूरण करती, सर्व दु:ख माँ नित ही हरतीं।

कनखल में गंगा की महिमा, कुरुक्षेत्र में सरस्वती महिमा।
पर नर्मदा ग्राम जंगल में, नित रहती माता मंगल में।

एक बार कर के स्नाना, तरत पिढ़ी है नर नारा।
मेकल कन्या तुम ही रेवा, तुम्हरी भजन करें नित देवा।

जटा शंकरी नाम तुम्हारा, तुमने कोटि जनों को है तारा।
समोद्भवा नर्मदा तुम हो, पाप मोचनी रेवा तुम हो।

तुम्हरी महिमा कहि नहीं जाई, करत न बनती मातु बड़ाई।
जल प्रताप तुममें अति माता, जो रमणीय तथा सुख दाता।

चाल सर्पिणी सम है तुम्हारी, महिमा अति अपार है तुम्हारी।
तुम में पड़ी अस्थि भी भारी, छुवत पाषाण होत वर वारि।

यमुना मे जो मनुज नहाता, सात दिनों में वह फल पाता।
सरस्वती तीन दीनों में देती, गंगा तुरत बाद हीं देती।

पर रेवा का दर्शन करके मानव फल पाता मन भर के।
तुम्हरी महिमा है अति भारी, जिसको गाते हैं नर-नारी।

जो नर तुम में नित्य नहाता, रुद्र लोक मे पूजा जाता।
जड़ी बूटियां तट पर राजें, मोहक दृश्य सदा हीं साजें|

वायु सुगंधित चलती तीरा, जो हरती नर तन की पीरा।
घाट-घाट की महिमा भारी, कवि भी गा नहिं सकते सारी।

नहिं जानूँ मैं तुम्हरी पूजा, और सहारा नहीं मम दूजा।
हो प्रसन्न ऊपर मम माता, तुम ही मातु मोक्ष की दाता।

जो मानव यह नित है पढ़ता, उसका मान सदा ही बढ़ता।
जो शत बार इसे है गाता, वह विद्या धन दौलत पाता।

अगणित बार पढ़ै जो कोई, पूरण मनोकामना होई।
सबके उर में बसत नर्मदा, यहां वहां सर्वत्र नर्मदा ।

॥ दोहा ॥

भक्ति भाव उर आनि के, जो करता है जाप।
माता जी की कृपा से, दूर होत संताप॥

॥ इति श्री नर्मदा चालीसा समाप्त ॥

Shree Narmada Chalisa in English

॥ Doha ॥

Devi Poojit, Narmada, Mahima Badi Apar।
Chalisa Varnan Karat, Kavi Aru Bhakt Udar ॥

Inaki Seva Se Sada, Mitate Pap Mahan।
Tat Par Kar Jap Dan Nar, Pate Hain Nit Gyan ॥

॥ Chaupai ॥

Jai-Jai-Jai Narmada Bhavani, Tumhari Mahima Sab Jag Jani।
Amarakanth Se Nikali Mata, Sarv Siddhi Nav Nidhi Ki Data ॥

Kanya Roop Sakal Gun Khani, Jab Prakatin Narmada Bhavani।
Saptami Sury Makar Ravivara, Ashvani Magh Mas Avatara ॥

Vahan Makar Apako Sajain, Kamal Pushp Par Ap Virajain।
Brahma Hari Har Tumako Dhyavain, Tab Hi Manavanchhit Phal Pavain॥

Darshan Karat Pap Kati Jate, Koti Bhakt Gan Nity Nahate।
Jo Nar Tumako Nit Hi Dhyavai, Vah Nar Rudr Lok Ko Javain॥

Magaramachchha Tum Mein Sukh Pavain, Antim Samay Paramapad Pavain।
Mastak Mukut Sada Hi Sajain, Panv Painjani Nit Hi Rajain॥

Kal-Kal Dhvani Karati Ho Mata, Pap Tap Harati Ho Mata।
Poorab Se Pashchim Ki Ora, Bahatin Mata Nachat Mora॥

Shaunak Rshi Tumharau Gun Gavain, Soot Adi Tumharaun Yash Gavain।
Shiv Ganesh Bhi Tere Gun Gavain, Sakal Dev Gan Tumako Dhyavain॥

Koti Tirth Narmada Kinare, Ye Sab Kahalate Du:Kh Hare।
Manokamana Pooran Karati, Sarv Du:Kh Man Nit Hi Haratin॥

Kanakhal Mein Ganga Ki Mahima, Kurukshetr Mein Sarasvati Mahima।
Par Narmada Gram Jangal Mein, Nit Rahati Mata Mangal Mein॥

Ek Bar Kar Ke Snana, Tarat Pidhi Hai Nar Nara।
Mekal Kanya Tum Hi Reva, Tumhari Bhajan Karen Nit Deva॥

Jata Shankari Nam Tumhara, Tumane Koti Janon Ko Hai Tara।
Samodbhava Narmada Tum Ho, Pap Mochani Reva Tum Ho॥

Tumhari Mahima Kahi Nahin Jai, Karat Na Banati Matu Badai।
Jal Pratap Tumamen Ati Mata, Jo Ramaniy Tatha Sukh Data॥

Chal Sarpini Sam Hai Tumhari, Mahima Ati Apar Hai Tumhari।
Tum Mein Padi Asthi Bhi Bhari, Chhuvat Pashan Hot Var Vari॥

Yamuna Me Jo Manuj Nahata, Sat Dinon Mein Vah Phal Pata।
Sarasvati Tin Dinon Mein Deti, Ganga Turat Bad Hin Deti॥

Par Reva Ka Darshan Karake Manav Phal Pata Man Bhar Ke।
Tumhari Mahima Hai Ati Bhari, Jisako Gate Hain Nar-Nari॥

Jo Nar Tum Mein Nity Nahata, Rudr Lok Me Pooja Jata।
Jadi Bootiyan Tat Par Rajen, Mohak Drshy Sada Hin Sajen॥

Vayu Sugandhit Chalati Tira, Jo Harati Nar Tan Ki Pira।
Ghat-Ghat Ki Mahima Bhari, Kavi Bhi Ga Nahin Sakate Sari॥

Nahin Janoon Main Tumhari Pooja, Aur Sahara Nahin Mam Dooja।
Ho Prasann Oopar Mam Mata, Tum Hi Matu Moksh Ki Data॥

Jo Manav Yah Nit Hai Padhata, Usaka Man Sada Hi Badhata।
Jo Shat Bar Ise Hai Gata, Vah Vidya Dhan Daulat Pata॥

Aganit Bar Padhai Jo Koi, Pooran Manokamana Hoi।
Sabake Ur Mein Basat Narmada, Yahan Vahan Sarvatr Narmada ॥

॥ Doha ॥

Bhakti Bhav Ur Ani Ke, Jo Karata Hai Jap।
Mata Ji Ki Krpa Se, Door Hot Santap॥

॥ Iti Shree Narmada Chalisa End ॥

Also See:

Narmada Aarti – ॐ जय जगदानन्दी, मैया जय आनन्द कन्दी ।

Leave a Comment